Tuesday, July 5, 2016

ये भीगे भीगे

ये भीगे भीगे से लम्हें,
  ये बारिशों के दिन .....
ये तेरी यादों का मौसम,
  और फ़िर से जीना तेरे बिन....

साथ अगर दोगे

साथ अगर दोगे तो मुस्कुराएंगे ज़रूर,
प्यार अगर दिल से करोगे तो निभाएंगे ज़रूर,
कितने भी काँटे क्यों ना हों राहों में,
आवाज़ अगर दिल से दोगे तो आएंगे ज़रूर।

Saturday, July 2, 2016

हसीन होठों को

अपने हसीन होठों को ..
किसी परदे में छुपा लिया करो,
हम गुस्ताख लोग हैं..
नजरों से चूम लिया करते है

Tuesday, June 28, 2016

कैसे न पिघले

मोम भला कैसे न पिघले,
सुरज ने आगाज किया है..
रोते अश्क कैसे न हसे,
आज खुद चाँद ने शृंगार किया है..
तुमसे दुरी कैसे सहे भला हम,
तूने मेरी सासो को थाम लिया है..

जी तो करता है

जी तो करता है मेरे सामने तुम बैठी रहो,
अपनी इन दर्द भरी आँखों से मुझे देखती रहो,
मैं खुद डूब जाऊँ तेरी इन निगाहों में,
तुम खामोशी से मुझमे खोयी रहो...

दिल की बात

1) क्या पानी पे लिखी थी मेरी तकदीर मेरे मालिक,..
हर ख्वाब बह जाता है मेरे रंग भरनेसे पहले ही..
2) क़सूर उनका नहीं, जो मुझसे दूरियाँ बना ली हैं,
रिवाज़ ही है ज़माने में, पढ़ी किताबें ना पढ़ने का..!!
3) सारी उम्र गुजार दी हैं मैंने बीच रास्ते,
एक तेरे और तेरी मोहब्बत के वास्ते...