जिसका वजूद

जिसका वजूद नहीं, वह हस्ती किस काम की,
जो मजा न दे, वह मस्ती किस काम की,
जहा दिल न लगे, वो बस्ती किस काम की,
हम आपको याद न करें,
तो फिर हमारी दोस्ती किस काम की.

Comments

Popular Posts