कया कशिश

कया कशिश हुसने बे पनाह में हे,
ज़ो क़दम है, उसी की राह में है ।
हाय ! वह राजे़ ग़म जो अब तक,
तेरे दिल मे, मेरी निगाह में है ।

Comments

Popular Posts