Shayari in Two Lines

हमारी शायरी पढ़ कर बस इतना सा बोले वो,
कलम छीन लो इनसे... ये लफ्ज़ दिल चीर देते है....


बस कीमत बता तू मुझे "मोहब्बत से रिहाई की!!
बहुत तकलीफ होती है तेरी यादों की सलाखों में..!!


कोशिश के बावजूद भी जो पूरी न हो सके,
तेरा नाम भी उन्ही ख्वाइशों में से है..!!


Comments

Popular Posts